Why so JudgeMENTAL?

Don't Judge

We spent a significant amount of our life in judging others. Instead of criticizing others and feeling good at their failure, we should learn to live our own life. After all, it’s a short life and we should enjoy each and every moment. It’s not like I am judging those who have a bad habit of judging others ;), my point is that we should first try to see good things in a person before creating a good or bad image about him/her. If you go by the Urban dictionary it define Judgmental as A way of making ones self feel better, by hurting others. Usually caused by closed mindedness, and a lack of manners. 
I can write a lot more about this, but I am refraining myself and will say more with the help of a free verse poem written below.
The poem may appear too critical or negative, but you will get the gist of this article and if you wear out Judging glasses you will somehow agree with me.
P.S – I am not writing this post because I have faced this a lot, fortunately I have a good social circle, but I have written this from a general perspective based on the environment outside my social circle.
Feel free to comment, a healthy discussion never hurts and one more thing (imagine it saying in Steve Jobs’ voice) Stop Stereotyping 🙂

 

उड़ जाऊं कहीं इस जहाँ से परे,
हो ना जहाँ कोई शिकवे गिले,
मिलूँगा खुदा से में जब,
पूछूँगा क्या है ये सब,
क्यूँ इतनी नफ़रत लोगों में है,
खुश दूसरों के लिए क्यूँ नहीं |

ज़िंदगी गुज़ार देते हैं यूँ,
फिर सोचते हैं हुआ ऐसा क्यूँ,
आवाज़ दिल लगाता रहा,
ना सुनी जो बात अब पछता हो रहे,  [२]
दिखाने की चाहत में  रूप अलग अलग लेते रहे,
चड़ा जुनून इस कदर, अपनो से फ़ासले बढ़ गये,
मंज़िल मिली पर खुशी कहीं खो गयी |

कभी सपनो को सच मान लिया,
तो कभी दिल को झूंठ बोलते रहे,
ना जाना खुद को कभी और दूसरों को बुरा कहते रहे |

टीस दिल में उठी है अब अकेले जब हो रह गये,
पिंजरे यादों के अब रास आते नहीं,
झूंठ से इन्हें जो भरते रहे,
अब पछता हो रहे अब पछता हो रहे |

इस दस्तूर को बदलने चला हूँ,
मंज़िल की परवाह नही है मुझे,
खुद ही को जान जाऊं में अगर,
पल में गुज़र जाएगा ये सुहाना सफ़र,
चाहता हूँ अब सिर्फ़ ये,
वक़्त ये कह ना सके की, अब पछता हो रहे अब पछता हो रहे |

Leave a comment